गर्भधारण कैसे करें

how-to-get-a-pregnant_2080.jpg

आजकल का युवा जोड़ा शादी के बाद संतान की योजना थोड़ा रूक कर करना चाहते हैं जिसकी प्रमुख वजह है दोनों का कामकाजी होना। वे चाहते हैं की आर्थिक रुप से संपन्न होने के बाद ही संतान की योजना तय करें। अब यह भी देखा गया है कि महिलाएं परिवार शुरू करने की बजाय अपने करियर और महत्वकांक्षा पर ज्यादा जोर दे रही है। आइए अब आप को इस लेख के माध्यम से बताते है कि कैसे करें स्वस्थ गर्भधारण।
 
1. रतिकाल की मानसिक स्थिति वैदिक काल से ही हमारे चिकित्सकों का कहना है की रतिकाल यानी की यौन सबंध बनाने से पहले स्त्री पुरूष दोनों की मानसिकता अच्छी होनी चाहिए जिसका प्रभाव सन्तान पर पड़ता है। अतः स्त्री और पुरूष को सन्तान उत्पत्ति के लिये रतिकाल का ध्यान रखना चाहिए और रजोनिवृत्ति के चार से पंद्रह दिन तक का समय अच्छा माना गया है।
 
2. स्त्री की शारीरिक स्थिति को समझें ओवुलेशन पिरियड यानी रजोनिवृत्ति के बाद नारी गर्भधारण करती है इसके लिये उसकी शारीरिक स्थिति और क्षमता पर ही गर्भ में पल रहे शिशु की सुरक्षा निर्भर करती है। यदि स्त्री कमजोर है तो गर्भपात की संभावना बढ़ जाती है अतः स्त्री को अपने खान पान में विशेश ध्यान देना चाहिए और विटमिनस की मात्रा अपने आहार में बढ़ानी चाहिए तथा डाॅक्टर से सलाह लेना नहीं भूलना चाहिए।
 
3. तनाव न लें यदि आप गर्भधारण करना चाहती है तो आप बिलकुल किसी प्रकार की टेंशन न लें क्योंकी तनाव से आपको गर्भधारण करने में समस्या आ सकती है जैसे आपका यौन संबंध न बनाने का मन, मासिकधर्म का रूकना आदि कोशिश करें तनावमुक्त रहें और मेडीटेशन और योग जरुर करें।
 
4. यौन संबध के बाद करें 10 से 15 मिनट तक लेटी रहें जब यौन संबंध हो जाए असके बाद थोडा आराम जरुर करें ताकि शुक्राणु योनी तक पहुंच सके एैसा आप 10 से 15 मिनट तक रहें।
 
5. डाक्टर से सलह लेती रहें ।
 
6. मादक पदार्थों का सेवन न करें यह बहुत आवश्यक है कि यौन संबध बनने से पूर्व आप कोई नशा न करें जैसे शराब का सेवन, धूम्रपान, गुटखा आदि ये आपके हारमोन्स के सन्तुलन के को बिगाड़ सकते हैं जिसका प्रभाव गर्भधारण करने में समस्या पैदा कर सकता है इसलिए ध्यान रहे की इन सब चीजों से परहेज ही रखें इन उपायों को करने से आप एक स्वस्थ गर्भधारण कर सकती हैं।
 
 
  
 

Loading...
डिसक्लेमर : वेदिकवाटिका में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी वेदिकवाटिका की नहीं है। वेदिकवाटिका में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।