प्लास्टिक की बोतल में पानी पीने के नुकसान

plastic-bottle-can-effect-your-health-health-news-in-hindi

आजकल प्लास्टिक की बोतलों में पानी पीने का प्रचलन अधिक हो गया है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि प्लास्टिक की बोतल में पानी पीने से हो सकता है जानलेवा खतरा। वैज्ञानिकों ने शोध के आधार पर यह बताया है कि यदि आप प्लास्टिक की बोतल में पानी पीते हैं तो इससे आॅटिज्म, डायबीटीज और कैसंर जैसी कई खतरनाक बीमारियां हो सकती हैं।
यह शोध न्यूयॉर्क यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने की है। शोध के अनुसार प्लास्टिक की बोतल में ईडीसी, यानि इंडोक्राइन डिसरप्टिंग केमिकल जैसा खतरनाक रसायन होता है। जो सीधे इंसान के हार्मोनल सिस्टम को सीधे नुकसान पहुंचाते हैं।

अमेरीका के वैज्ञानिकों ने माना है कि केवल अमेरीका में ही ईडीसी रसायन से होने वाली बीमारी से बचने के लिए 23 करोड़ रूपये से अधिक का खर्च हो चुका है।

अब आपको बताते हैं प्लास्टिक में होने वाला खतरनाक रसायन कैसे काम करता है
दोस्तों जब हम प्लास्टिक की बोतल या किसी भी चीज का प्रयोग खाना खाने वाली वस्तुओं के रूप में करते हैं तब यह हमारे शरीर की ग्रंथियों को प्रभावित करता है। यह वही ग्रंथियां होती हैं जो हमारे शरीर की हर जरूरत को पूरा करती है और हमें उर्जा देती है। यही नहीं प्लास्टिक के खिलौने, डिटरजेंट व डिब्बे के अलाव सौंदर्य प्रदान करने वाली चीजों में यह खतरनाक केमिकल पाया जाता है। आप इन खतरनाक केमिकलों को आसानी से नहीं देख सकते हो।

कौन कौन सी बीमारियां हो सकती हैं प्लास्टिक की बोतल या डिब्बे में पानी व खाना खाने से
ईडीसी केमिकल जब इंसान के शरीर में प्रवेश करता है तब मोटापा, कैंसर, आॅटिज्म, दिमागी परेशानी, पुरूषों में बांझपन, महिलाओं में गर्भाश्य में बांझपन का होना आदि की समस्या हो सकती है।

कैसे पता चला इस केमिकल से होने वाले नुकसान के बारे में
अमेरिका के वैज्ञानिकों ने 5000 से अधिक लोगों पर शोध किया। जिसमें उनके यूरिन की जांच की गई। और उसमें पता चला कि इसमें अधिकतर ईडीसी केमिकल से बीमारियांे से प्रभावित थे।

Loading...
डिसक्लेमर : वेदिकवाटिका में जानकारी देने का हर तरह से वास्तविकता का संभावित प्रयास किया गया है। इसकी नैतिक जिम्मेदारी वेदिकवाटिका की नहीं है। वेदिकवाटिका में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।